Ladkiyo ko Impress Karne ki Shayari | लड़की को इंप्रेस करने के शायरी

By Shayari Mirchi

Updated on:

Ladkiyo ko Impress Karne ki Shayari

Ladkiyo ko Impress Karne ki Shayari | लड़की को इंप्रेस करने के लिए शायरी | Ladki ko Impress Karne ke Status | लड़का और लड़कियों की शायरी | Ladki ko Impress Karne Wali Shayari | गर्ल इम्प्रेस शायरी इन हिंदी

Ladkiyo ko Impress Karne ki Shayari

बना-कर रख ले कैदी मुझे तू अपनी चाहत का,
बिछड़ के तुमसे जीना अब मुझे गवारा नहीं होता..!

 

किस्मत मे रात की नींद नहीं है तो क्या हुआ
ज़ब मौत आएगी जी भर कर सो लेंगे 🥀

 

प्यार मोहब्बत सब धोखा है इस बात को मैं जानता हूं
आपको देखने के बाद इन सब बातों को मैं गलत मानता हूं।

 

वो शौक रखते हैं ज़िस्मबाज़ी का…
कहा करते हैं इत्तेफ़ाक़न इश्क़ इसी को…!!

 

मेरी जिंदगी का हर सफर सुहाना बन जाए,
गर साथ तेरा सनम उम्र भर के लिए मिल जाए।

 

उसकी कातिल निगाहें दिल पर वार करती हैं,
लबों को सिए वो बातें हजार करती हैं।

 

देखते ही उनको फिदा हो जाएं, इतनी हसीन हैं वो,
न गहने न श्रृंगार, फिर भी वो बला की खूबसूरत है।

 

सुबह होते ही जो इंसान हमें सबसे पहले याद
आता है.. वह सिर्फ तुम हो..!!❣️❣️

 

कोई हो ऐसा जो कदम से कदम मिलाए
कोई तो हो ऐसा जो हम से भी दिल लगाए।

 

दिल के सुन्दर अहसास को प्यार कहते है
तुम्हारी झुकी हुयी निगाहे बता रही है
हमे कि आप हमसे बहुत प्यार करती है।

 

सारी दुनिया की मुलाकाते एक तरफ,
तेरे साथ बैठना और तुझे देखना एक तरफ..

 

क्यों न मांगे हम बेवफ़ा होनें का सबूत…
वफादारी थोडी है जो साबित न हो सकेगी…!!

 

ज़मानें की बात नहीं अच्छाई और बुराई में…
वक़्त बदलता है फितरत नहीं बदलती किसी की…!!

 

ईलाज ज़रूरी तो नहीं इतना लेक़िन…
हक़ीम कहता है जी लेते तो अच्छा होता…!!

 

बिना तेरे जिएना, दर्द की तलाश है अब,
तू नहीं तो क्या हुआ, जिन्दगी अधूरी सी लगती है।

 

तेरे वजूद की खुशबु बसी है साँसों में,
ये और बात है नजरों से दूर रहते हो..!!

 

करनी है खुदा से दुआ, तेरे सिवा कुछ ना मिले,
तू मिले तो मिले जिंदगी, वरना कुछ ना मिले..!!❤️🥀

 

उनकी आंखों में कुछ तो खास है,
जब भी नजरें मिलाते हैं नशा सा छा जाता है।

 

घर बना कर मेरे दिल में वो छोड़ गया,
न खुद रहता है न किसी और को बसने देता है..!!

 

इस से पहले कि मुझ को सब्र आ जाए,
कितना अच्छा हो कि लौट आओ तुम..!!

 

ये जो मैं बेवजह उसकी तलाश करता रहता हूँ
क्या मैं खुद ही खुद को बर्बाद करता रहता हूँ !

 

किसी हालत में भी तन्हा नहीं होने देती,
है यही एक खराबी मेरी तन्हाई की..!!

 

कितनी चाहत है दिल में, पर कितना दर्द है इसमें,
जब से वो चली गई, तब से ये दिल रोता है।

 

आज एक और बरस बीत गया उस के बग़ैर,
जिस के होते हुए होते थे ज़माने मेरे..!!

 

अपनी नजरों के असर से वो अंजान हैं,
जो मरने वाले को भी जीने की चाह सिखा देती है।

 

कितनी अजीब है इस शहर की तन्हाई भी,
हजारों लोग हैं मगर कोई उस जैसा नहीं है..!!

 

वो आइना भी क्या दे पाएगा आपके हुस्न की गवाही,
हमारी नजरों से पूछो, जो देखते ही आप पर मर मिटे हैं।

 

एक तेरे ना होने से बदल जाता है सब कुछ
कल धूप भी दीवार पे पूरी नहीं उतरी..!!

 

ये भी शायद ज़िंदगी की इक अदा है दोस्तों,
जिसको कोई मिल गया वो और तन्हा हो गया..!!

 

दिल गया तो कोई आँखें भी ले जाता,
फ़क़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ..!!

 

दूर रहकर भी तुम्हारी ही ख़ुशी का ख्याल रखते है
हम कुछ इस कदर आपसे मोह्हबत करते है..!!

 

हमें लगता है कि आप भी चाहने लगे हो हमको
चुप चुप कर देखने लगे हो हमको।

 

दिल तुझपे कुर्बान, मगर तू बेवफ़ा निकली,
मेरे दर्द को तूने हँस के संभाला निकली।

 

तन्हाई की रातों में, दिल रो रहा है अकेला,
ख्वाबों की दुनिया में, हर ख्वाब टूट जाता है।

 

तेरे इश्क़ में वफ़ा की आसमां गिरी,
बेवफ़ाई की रातों में बारिश हुई।

 

दर्द भरी रातों में, आँखों से बहती है ये आँसू,
दिल की गहराइयों में, छुपा है एक पुराना दर्द।

 

मोहब्बत के सफर में, दर्द ही दर्द है साथ,
कभी हँसते हैं हम, कभी रोते हैं हम।

 

तेरे पीछे है कितने दीवाने, कोई नए तो कोई पुराने |
अभी नादान हु गोरी जरा घायल बना कर देखो |

 

तन्हाई की रातों में दिल रोता है, दर्द के
सिलसिले को याद करके, ये रिश्ता तुटता है।

 

जिन्दगी के सफर में दर्द ही मिलेंगे, बिना दर्द के
कुछ पाना है, तो कुछ खोना भी पड़ेगा।

 

आँखों में आंसू और दिल में दर्द हो तो क्या हुआ,
ये जिंदगी है, कुछ पल खुशियों के बाद भी हमें रुलाती है।

 

तुम्हारे एक लम्हे पर मेरे हक़ नही
न जाने तुम मेरे हर लम्हे मे शामिल हो

 

अब वो मेरी बातों पर मुस्कुराने लगी हैं,
लगता हैं वो थोड़ा थोड़ा मुझे चाहने लगी हैं..!!

 

मुझे आप बहुत ही पसंद हो अब आपके
बिना एक पल भी नहीं रह पाता

 

उसकी मासूम आंखें जब भी हमें देखती हैं,
खुदा कसम बार-बार उस पर मर मिटने को जी चाहता है।

Shayari Mirchi

Related Post