Mumbai Flood Shayari in Hindi | मुंबई में बाढ़ की तस्वीरें देख पगली शायरी

By Shayari Mirchi

Updated on:

Mumbai Flood Shayari in Hindi

Mumbai Flood Shayari in Hindi | मुंबई में बाढ़ की तस्वीरें देख पगली शायरी | बाढ़ पर शायरी स्टेटस कोट्स कैप्शन इन हिंदी | मुंबई में बाढ़ की तस्वीरें देख पगली शायरी दोस्ती शायरी दोस्ती शायरी हिंदी के

मुंबई में बाढ़ की तस्वीरें देख पगली शायरी

मुंबई की बरसात, बारिश की बोचार,
जल जमकर बह गया हर दिल का प्यार।

 

बाढ़ ने मुंबई को सिखा दिया,
कि प्रकृति के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहिए।
अगर हमने प्रकृति का ख्याल नहीं रखा,
तो फिर कभी भी बाढ़ आएगी।

 

सड़कों पर पानी, घरों में आवाज़,
फिर भी मुंबईकर हैं अपनी आबादी का राज।

 

जागते रहें रात-रात भर सावधानी से,
मुंबईकर हैं हम, हमारा यही संकल्प अब भी है मजबूती से।

 

बारिश के बावजूद हम बदलने नहीं हैं,
मुंबई में है ज़िंदगी का मज़ा ही दूसरा जैसा।

 

जब भी आए बारिश के बुलेटिन बॉक्स से आवाज़,
मुंबई करेगा सामना, हर चुनौती के साथ खड़ा हो
जाएगा हमारा यह शहर मजबूती से।

 

मुंबई की बरसात, बारिश की बोचार,
इस शहर का दिल हमेशा बड़ा है,
यह वक़्त सबको याद रहेगा सारी उम्र।

 

पर फिर भी हर मुश्किल को गले लगाता है यहाँ,
मुंबई शहर, तू है बेहद बेहद महान।
बरसात के बावजूद भी, जब बुलंद खड़ा होता है तू,
खुशियों का तू संगम, हर दर्द की जड़ तू।

 

बरसात की बूँदों से भरी ये रातें,
मुंबई की धड़कन, बढ़ गई सांसें।

 

मुंबई के बादलों से हमें सबक़ यही मिला है,
ज़िन्दगी के हर रास्ते पर आगे बढ़ने का हौसला यहाँ से मिला है।

 

बाढ़ ने मुंबई को तबाह कर दिया,
लोगों की जान-माल का नुकसान हुआ।
सरकार मदद के लिए आई,
लेकिन तब तक बहुत कुछ बिगड़ चुका था।

 

सड़कों पर पानी की बहार है अब,
मुंबई की ये आवाज़, दिल को छू गई हर दर्द।

 

इस बार भी तूने ज़िंदगी को नया मतलब दिया है,
मुंबई के बादलों, तू हमेशा याद आएगा हमें यहाँ।

 

आंसू की बूंदें साथ लाई बरसात के साथ,
मुंबई की जिंदगी, हर बार तय करती है मुआवजा।

 

प्राकृतिक आपदाओं के सामने, है मुंबई की मनोबल,
साथी बनकर हर मुंबईकर की एक मिसाल।

 

मुंबई के इस इरादे को सलाम है,
हर मुश्किल से आगे बढ़ने का मन है।

 

पानी की लहरों में फिर से बहकर गया है शहर,
मुंबई की ये कहानी हर बार दुखदा होती है यार।

 

बारिश की बुँदों के साथ चलती है ये यात्रा,
मुंबई के दिल में बसी है ये मोहब्बत की मिसाल।

 

बाढ़ ने मुंबई को तबाह कर दिया,
लोगों की जान-माल का नुकसान हुआ।
सरकार मदद के लिए आई,
लेकिन तब तक बहुत कुछ बिगड़ चुका था।

 

मुंबई, तू ताकदवर है, हर मुश्किल को जीत लेगा तू,
ये दर्द भी, ये बारिश भी, हर दिन बढ़ती है तेरी ताकद को।

 

बरसात की रातों में, उठेगा फिर से नया सवेरा,
मुंबई की शान, अपने दम पर बढ़ेगा और फिर
हफ्तों में धड़केगा ये शहर का दिल मेरा।

 

बाढ़ ने मुंबई को दिखा दिया,
कि लोगों में एकता की शक्ति कितनी बड़ी है।
जब लोग एक साथ मिलकर काम करते हैं,
तो कोई भी मुश्किल उन्हें हरा नहीं सकता है।

 

सरकार ने मदद का वादा किया,
लेकिन कब मिलेगी वह मदद?
लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया,
कैसे करें अपनी जिंदगी की शुरुआत?

 

मुंबई बाढ़ ने सबको सिखाया,
कि प्रकृति के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहिए।
अगर हमने प्रकृति की रक्षा नहीं की,
तो फिर कभी भी बाढ़ आएगी।

 

मुंबई बाढ़ ने लोगों को एकता का पाठ पढ़ाया,
कि जब लोग एक साथ मिलकर काम करें,
तो कोई भी मुश्किल उन्हें हरा नहीं सकता है।

 

मुंबई बाढ़ के बाद,
मुंबई में एक नई शुरुआत होगी।
लोग प्रकृति के साथ बेहतर तालमेल बिठाएंगे,
और एक बेहतर भविष्य का निर्माण करेंगे।

 

मुंबई बाढ़ ने मुंबई को दिखा दिया,
कि मुंबई की जनता कितनी मजबूत है।
बाढ़ ने मुंबई को हिलाकर रख दिया,
लेकिन मुंबई वालों ने हार नहीं मानी।

 

मुंबई बाढ़ ने मुंबई को दिखा दिया,
कि मुंबई की जनता कितनी मेहनती है।
बाढ़ ने मुंबई को तबाह कर दिया,
लेकिन मुंबई वालों ने फिर से सब कुछ खड़ा कर लिया।

 

मुंबई बाढ़ ने मुंबई को दिखा दिया,
कि मुंबई की जनता कितनी दयालु है।
बाढ़ में फंसे लोगों की मदद करने के लिए,
मुंबई वालों ने कोई कसर नहीं छोड़ी।

मुंबई बाढ़ ने मुंबई को दिखा दिया,
कि मुंबई की जनता कितनी मददगार है।
बाढ़ में फंसे लोगों की मदद करने के लिए,
मुंबई वालों ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया।

 

मुंबई बाढ़ ने मुंबई को दिखा दिया,
कि मुंबई की जनता कितनी मजबूत है।
बाढ़ ने मुंबई को हिलाकर रख दिया,
लेकिन मुंबई वालों ने हार नहीं मानी।

 

बिना डर के जीना सिखाता है यह शहर,
मुंबई, तू हमेशा हमारी ज़िन्दगी का हिस्सा रहेगा यार।

 

मुंबई के बादलों ने फिर रुला दिया है,
बरसात के दिनों में फिर से डूबा दिया है।

 

ज़िन्दगी की बहती धार में फिर से उतर आया है,
मानसून की आवाज़ ने सबको सता दिया है।

 

पर फिर भी हम यहाँ हैं, मिलकर हाथ मिलाते हैं,
मुंबई के बादलों के नीचे भी दिल बहलाते हैं।

Shayari Mirchi

Related Post