250+ Mausam Shayari in Hindi | बेहतरीन रोमांटिक मौसम शायरी

Mausam Shayari in Hindi :- दोस्तों, मौसम कभी सुहावना होता है कभी सर्द कभी गर्म, कभी चारो तरफ फूल खिले होते हैं कभी वीरानी, इसी तरह इन्सान की ज़िन्दगी में भी उतार चढाव आते रहते है, ज़िन्दगी और मोसम के इन्ही बदलते रंगों को शायरों ने कुछ इस तरह बयां किया है, पेश है मौसम और रुत पर कुछ अच्छे शेर, उमीद है आप सब को पसंद आएगा !

बेहतरीन रोमांटिक मौसम शायरी

 

Mausam Ko Mausam Ke Baharon Ne Luta,
Kashti Ko Saahil Ke Kinaron Ne Luta.
Tum To Darr Gaye Ek Hi Kasam Se,
Humein To Tumhari Kasam De Kar Hazaron Ne Luta.

 

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया
ख़त्म सभी का इंतज़ार हो गया।
बारिश की बूंदे गिरी इस तरह से
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया।।

 

Dard Me Koi Mousam Pyara Nahi Hota,
Dil Ho Pyasa To Pani Se Gujara Nahi Hota.
Koi Dekhe To Humari Bebasi,
Hum Sabhi K Ho Jate Hain Par Koi Humara Nahi Hota.

 

 

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया
ख़त्म सभी का इंतज़ार हो गया
बारिश की बूंदे गिरी इस तरह से
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया.

 

Aaj Mausam Kitana Khush Ganwaar Ho Gaya,
Khatm Sabhi Ka Intazaar Ho Gaya,
Barish Ki Bunde Giri Is Tarah Se,
Laga Jaise Aasmaan Ko Zamin Se Pyaar Ho Gaya.

 

मौसम हुआ बारिश का आपकी याद हमें आने लगी
हुई बारिश शुरू आपकी याद हमें खाने लगी
बारिश हुई तेज हमारी रूह आपको बुलाने लगी
आप आए नहीं आज भी देखो बारिश फिर से जाने लगी

Romantic Mausam Shayari in Hindi

 

बरिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है
किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है
फिजा भी सर्द है यादें भी ताज़ा हैं
यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है

 

Barish ka yah mausam kuchh yaad dilata hai
Kisi ke sath hone ka ehsaas dilata hai
Fiza bhi sard hai yaadein bhi taza hai
Yah mausam kisi ka pyar dil mein jagaata hai

 

तेरे चेहरे को देख दिल में सवाल होता है
तेरी जुल्फों से भी हाय….. क्या कमाल होता है
गलों से भी दिल में बवाल होता है
पर तेर दिल को देख मुझको मलाल होता है….

 

 

आज ठण्ड लग रहा है इस गर्मी के मौसम में
दिल थोड़ा रो रहा है उसके यादो की धड़कन में
तुम मान जाओ नहीं जी पाएंगे तुम्हारे बिना
जो चाहे करवा लो पर तुम्ही हो मेरे कण कण में

 

Ek Naya Mausam Aaj Phir Aaya Hai
Aaj Phir Kisi Ne Aankhon Se Ashk Bahaaya Hai
Chhup Gaye Aansoo Aaj Phir Baarish Mein
Dil Mein Phir Gham Ka Sailaab Aaya Hai

 

उसे कह दो वो मेरा है किसी और का हो नहीं सकता,
बहुत नायाब है मेरे लिए वो कोई और उस जैसा हो नहीं सकता,
तुम्हारे साथ जो गुज़ारे वो मौसम याद आते हैं,
तुम्हारे बाद कोई मौसम सुहाना हो नहीं सकता।

 

Barish Ka Ye Mousam Koch Yaad Dilata Hai
Kisi Kay Saath Honay Ka Ehsaas Dilata Hai
Fiza Bhi Sard Hai Yaadain Bhi Taaza Hai
Ye Mousam Kisi Ka Pyaar Dil May Jagata Hai

 

मिला हूँ ख़ाक में ऊँची मगर औकात रखी है,
तुम्हारी बात थी आखिर तुम्हारी बात रखी है,
भले ही पेट की खातिर कहीं दिन बेच आया हूँ,
तुम्हारी याद की खातिर भी पूरी रात रखी है।

 

Dekhte Dekhte Kai Mausam Badal Gayae,
Auron Ki Kya Baat Karein,Sanam Badal Gayae.
Ruswa Mehfil Mein Is Tarah Se Hue,
Apnon Ki Bheed Mein Jaise,Hum Badal Gayae.

 

Mausam Shayari in Hindi

 

Mausam Hai Barish Ka Aur Yaad Tumhari Aati Hai,
Barish Ke Har Qatre Se Awaz Tumhari Aati Hai.
Badal Jab Garajte Hain, Dil Ki Dharkan Badh Jati Hai,
Dil Ki Har Ek Dharkan Se Awaz Tumhari Aati Hai.

 

बारिश आई थी बादल गरजे थे
हर जगह उनके फिजा ए मौसम महकाने के चर्च थे
पर एक हम ही नजारों का मजा न ले पाए
यहाँ जो तेरे इम्ताहानो से निकल जाने को तरसे थे!

 

Tujh Se Milnay Ko Kabhi Hum Jo Machal Jaate Hain
To Khyalon Me Bohut Door Nikal Jaate Hain
Gar Wafaun Me Sadaqat Bhi Ho Or Shiddat Bhi
Phir To Ahsaas Se Patther Bhi Pighal Jaate Hain

 

Bewafayi Ka Mujhe Jab Bhi Khyaal Aata Hai
Ashk Rukhsaar Pe Aankhon Se Phisal Jaate Hain
Piyar Me Aik Hi Mausam Hai Baharon Ka
Log Mausam Ki Tarha Kese Badal Jaate Hain ??

Mausam Shayari in Hindi

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया
खत्म सभी का इंतज़ार हो गया
बारिश की बूंदे गिरी कुछ इस तरह से
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया!

 

Bhagon Main Phir Bahaar Ka Mausam Hai Aa Gaya
Phir Zindagi Main Pyar Ka Mausam Hai Aa Gaya
Serson Ka Rang Khila-Khila Haldi Ke Rang Se
Lagta Hai Phir Pyaar Ka Mausam Hai Aa Gaya .

 

Dayar-e-nur mein tera shabon ka sathi ho
koi to ho jo meri vahashaton ka sathi ho
main us se jhooth bhi bolun to mujh se sach bole
mere mizaj ki sab mausamon ka sathi ho

 

मौसम है बरीश का और याद आपकी आती है
बारीश के हर कतरे से आवाज तुम्हारी आती है
जब तेज हवाऐं चलती है तो जान हमारी जाती है
मौसम है बारीश का और याद तुम्हारी आती है!

 

Itni Shidat Se To Barsaat Be Kam Kam Barsay
Jis Traha Ankh Teri Yaad Main Cham Cham Barsay
Minatien Kon Kary Aik Gharondy Ke Lye
Kah Do Baadal Se Barasta Hai To Jam Jam Barsay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *