0

Gajal Shayari in Hindi | Gajal Shayari Hindi | Gajal Hindi Shayari

Gajal Shayari in Hindi | Gajal Shayari Hindi | Gajal Hindi Shayari

मंजिल …

पहर दिन सप्ताह महीने साल;
मत देखों मंजिल की चाह में;

ये देखों कि कितना चले हो;
और उसमें भी कितना भटके हो राह में;

यदि यह भटकाव कुछ कम हो जाए;
और तेजी ला दो चाल में;

तो बहुत मुमकिन है कि कामयाबी;
हांसिल हो जाए नए साल में।

Gajal Shayari Hindi

 

अपनी यादें…

अपनी यादें अपनी बातें लेकर जाना भूल गये;
जाने वाले जल्दी में मिलकर जाना भूल गये;

मुड़-मुड़ कर देखा था जाते वक़्त रास्ते में उन्होंने;
जैसे कुछ जरुरी था, जो वो हमें बताना भूल गये;

वक़्त-ए-रुखसत भी रो रहा था हमारी बेबसी पर;
उनके आंसू तो वहीं रह गये, वो बाहर ही आना भूल गये।

Gajal Shayari Hindi

 

कभी मुझ को…

कभी मुझ को साथ लेकर, कभी मेरे साथ चल के;
वो बदल गए अचानक, मेरी ज़िन्दगी बदल के;

हुए जिस पे मेहरबाँ, तुम कोई ख़ुशनसीब होगा;
मेरी हसरतें तो निकलीं, मेरे आँसूओं में ढल के;

तेरी ज़ुल्फ़-ओ-रुख़ के, क़ुर्बाँ दिल-ए-ज़ार ढूँढता है;
वही चम्पई उजाले, वही सुरमई धुंधल के;

कोई फूल बन गया है, कोई चाँद कोई तारा;
जो चिराग़ बुझ गए हैं, तेरी अंजुमन में जल के;

मेरे दोस्तो ख़ुदारा, मेरे साथ तुम भी ढूँढो;
वो यहीं कहीं छुपे हैं, मेरे ग़म का रुख़ बदल के;

तेरी बेझिझक हँसी से, न किसी का दिल हो मैला;
ये नगर है आईनों का, यहाँ साँस ले संभल के।

Gajal Shayari Hindi

 

कब याद मे…

कब याद मे तेरा साथ नहीं, कब हाथ में तेरा हाथ नहीं;
साद शुक्र की अपनी रातो में अब हिज्र की कोई रात नहीं;

मुश्किल है अगर हालत वह, दिल बेच आए, जा दे आए;
दिल वालो कूचा-ए-जाना में, क्या ऐसे भी हालात नहीं;

जिस धज से कोई मकतल में गया, वो शान सलामत रहती है;
ये जान तो आनी-जानी है, इस जान की तो कोई बात नहीं;

मैदान-ए-वफ़ा दरबार नहीं, या नाम-ओ-नसब की पूछ कहाँ;
आशिक तो किसी का नाम नहीं, कुछ इश्क किसी की जात नहीं;

गर बाज़ी इश्क की बाज़ी है, ओ चाहो लगा दो दर कैसा;
गर जीत गए तो क्या कहने, हारे भी तो बाज़ी मात नहीं।

Gajal Shayari in Hindi

देखा तो था यूं ही…

देखा तो था यूं ही किसी ग़फ़लत-शिआर ने;
दीवाना कर दिया दिल-ए-बेइख़्तियार ने;

ऐ आरज़ू के धुंधले ख्वाबों जवाब दो;
फिर किसकी याद आई थी मुझको पुकारने;

तुमको ख़बर नहीं मगर इक सादालौह को;
बर्बाद कर दिया तेरे दो दिन के प्यार ने;

मैं और तुमसे तर्क-ए-मोहब्बत की आरज़ू;
दीवाना कर दिया है ग़म-ए-रोज़गार ने;

अब ऐ दिल-ए-तबाह तेरा क्या ख्याल है;
हम तो चले थे काकुल-ए-गेती सँवारने।

Gajal Shayari in Hindi

तुम न आये एक दिन…

तुम न आये एक दिन का वादा कर दो दिन तलक;
हम पड़े तड़पा किये दो-दो पहर दो दिन तलक;

दर्द-ए-दिल अपना सुनाता हूँ कभी जो एक दिन;
रहता है उस नाज़नीं को दर्द-ए-सर दो दिन तलक;

देखते हैं ख़्वाब में जिस दिन किस की चश्म-ए-मस्त;
रहते हैं हम दो जहाँ से बेख़बर दो दिन तलक;

गर यक़ीं हो ये हमें आयेगा तू दो दिन के बाद;
तो जियें हम और इस उम्मीद पर दो दिन तलक;

क्या सबब क्या वास्ता क्या काम था बतलाइये;
घर से जो निकले न अपने तुम “ज़फ़र” दो दिन तलक।

Gajal Shayari in Hindi

एक अजीब सी हालत है…

एक अजीब सी हालत हैं तेरे जाने के बाद;
भूख ही नहीं लगती खाना खाने के बाद;

मेरे पास 8 समोसे थे जो मैंने खा लिए;
1 तेरे आने से पहले 7 तेरे जाने के बाद;

नींद ही नहीं आती मुझे सोने के बाद;
नज़र कुछ नहीं आता आँखे बंद होने के बाद;

डॉक्टर से पूछा इसका इलाज़ दी 4 टैबलेट;
बोला खा लेना 2 जागने से पहले 2 सोने के बाद।

Gajal Shayari in Hindi

तस्वीर का रुख…

तस्वीर का रुख एक नहीं दूसरा भी है;
खैरात जो देता है वही लूटता भी है;

ईमान को अब लेके किधर जाइयेगा आप;
बेकार है ये चीज कोई पूछता भी है;

बाज़ार चले आये वफ़ा भी, ख़ुलूस भी;
अब घर में बचा क्या है कोई सोचता भी है;

वैसे तो ज़माने के बहुत तीर खाये हैं;
पर इनमें कोई तीर है जो फूल सा भी है;

इस दिल ने भी फ़ितरत किसी बच्चे सी पाई है;
पहले जिसे खो दे उसे फिर ढूँढता भी है।

kumarmukul598

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *