Best Love Status in Hindi | टॉप 199+ लव स्टेटस इन हिन्दी 2021

इस पोस्ट में Best Love Status in Hindi 2021 | बेहतरीन लव स्टेटस हिन्दी | Cute status for whatsap | Love Status In Hindi |  Love Status in Hindi for Gf | लव स्टेटस हिंदी में  | Sad Love Status in Hindi | स्टेटस हिन्दी लव शायरी | Love Status in Hindi Whatsapp.

Best Love Status In Hindi 2021

जीवन के बारे में ज्यादा व्यथित न हों,
इससे आप बच कर निकलने वाले तो हैं नहीं।

 

जब प्यार और नफरत दोनों ही ना हो तो,
हर चीज साफ़ और स्पष्ट हो जाती है !!

 

प्रेम को कारण की ज़रुरत नहीं होती,
वो दिल के तर्कहीन ज्ञान से बोलता है !!

Best Love Status in Hindi 2021

सारा करिश्मा मोहब्बत का है,
वरना कौन पत्थर की दीवारों को
ताजमहल कहता है !!

 

नफरतों को जलाओ तो मोहोब्बत की रौशनी होगी,
वर्ना इन्सान जब भी जले है ख़ाक ही हुए है !!

 

कभी फुर्सत में अपनी कमियों पर गौर करना..
दुसरो के आईने बनने की ख्वाइश मिट जायेगी..!!

 

हलके में मत लेना तुम सावले रंग को,
दूध से कही ज्यादा देखे है मैंने शौक़ीन चाय के.

Love Status in Hindi For Whatsapp

हाथ में टच फ़ोन, बस स्टेटस के लिये अच्छा है…
सबके टच में रहो, जींदगी के लिये ज्यादा अच्छा है..

 

मुझे किसी के बदल जाने का गम नही है,
बस कोई था जिससे ये उम्मीद नही थी..!!

 

किताबों की तरह बहुत से अल्फाज़ हैं मुझमें ,
और किताबों की तरह ही खामोश रहता हूँ मैं !!

Loving Romantic Hindi Status

कौन कहता है की तेरी ‪खुबसुरती‬ में दम है?
अरे ‪‎पगली‬ तुझे तो लोग इस लिए देखते हैं
कि तेरे ‪‎आशिक़ हम हैं .

 

बहोत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायतें… जो कभी बयाँ नहीं होती…!!

 

काश मैं लौट जाऊँ बचपन की उन गलियों में…
जहां ना कोई ज़रूरत थी, ना कोई ज़रूरी था.

Best Love Status in Hindi 2021

हम मशहुर होने का दावा तो नही करते…
मगर.. जिसे भी आखँ भर कर देख लेते है
उसे उलझन में जरुर डाल देते हैं.

 

ज़िंदगी में दोस्ती का पौधा लगाने से पहले जमीन परख
लेना दोस्तों यहाँ हर मिट्टी की फितरत एक जैसे
नही होती है..!

 

मैंने तो हमेशा ही तुझसे महोब्बत की,
तेरे ना मानने से हकीक़त नहीं बदलेगी..

 

“उसने समझा ही नही मेरे अल्फ़ाज़ों को…,
मैंने हर शिकायत के पीछे लीखा था ‘मोहब्बत है तुमसे’।

 

💔हम सिर्फ जरूरत थे….
जरूरी तो कोई और ही था…..!😊

 

में तो हार गया सालों पहले अपनी महोब्बत…
ये किसलिए में अब खूबसूरत कहानियां लिखता हूं…

 

हर पल जिंदगी का हसीन देखो,
कभी एक पल मुस्कुराकर तो देखो!!

 

“ज़ाहिर ना होने देना ये बात जहाँ भर में,
हम ख़फा है ये आपस की बात है…!”

 

तेरे तसव्वुर में, जब शुमार रहते हैं…!!
फ़क़त उसी वक़्त, हम ग़ुलज़ार रहते हैं…!!

 

कभी कभी अच्छी खबरें भी आ जाती है,
जैसे अब भी कभी कभी
तुम आ जाती हो अपनी छत पर ।

 

“हम उनके पास से भी प्यासे लौटे,
जिनकी आँखों में प्यार के समन्दर थे।”

 

“वो रूठ गया है तो रूठ जाने दो,
ज़रा सी जो बात है…बढ़ जायेगी मनाने से।”

 

जो इश्क में होंगे वो मरेंगे तुम्हारे सुर्ख होंठों पर…
मैं प्रेम में हूँ मुझे तुम्हारे होंठो की मुस्कान पसन्द है..

 

ये जो शिकवे तुम्हें मुझसे बेशुमार हैं…!!
कभी इतनी मोहब्बत भी की है मुझसे…????

 

कशिश भी रही, कश्मकश भी रही…!
आखिर में लेकिन, बस कसक ही रही…!!

 

निगाहों के जादू पर अब यकीं नहीं करते..
ये काजल के घेरे अंधा कर देते हैं इश्क़ में.;;

 

तुम मेरे चेहरे की वो मुस्कान हो…!
जिसे देखकर हर कोई पूछता है-कौन है वो…!!

 

हजारों से बातें नहीं करनी…!!
हजारों बातें करनी है किसी एक से…!!!!

 

तलब बुझती नहीं अखियों से तेरे दीदार की…!
बडी मासूम सी मुहब्बत है, यारों मेरे यार की…!!

 

सारे इत्र की खुशबू एक तरफ,
उनका नज़ाकत से देखना एक तरफ़।।

 

तुमसे मिलने की तम्मन्ना और तेरा ख़याल…!!
उलझा उलझा सा मैं अज़ीब सा है हाल…!!

 

वो फिसले, गिरे और बिखर गए…!!
अश्क इंतज़ार थे, सब कह गए…!!!!.

 

ये तो दो रूह का ही मिलन है,
वरना वादे तो सात फेरों वाले भी पूरे नही होते।।

 

“दब गई थी नींद कहीं करवटों के बीच,
दर पे खड़े रहे कुछ ख़्वाब रात भर।”

 

कौन कहता है,, मुझसे वफा कीजिए…!!
आइए,,दिल लगाइए,,और तबाह कीजिए…!!

 

यूँही थोड़ी में छत पर दिखता था…
मेरी छत से ही उसका घर दिखता था…❤️❤️

 

कभी तेरा नाम तो कभी सिगरेट…
मुझे चिंगारी ही पसन्द है अपने होंठो पर…

 

उनकी कलाई क्या थामी हमने,
खबर सारे अखबार में आम हो गयी।।

 

छोड़ तो दूँ मैं लिखना,अभी के अभी, मगर…!!
किसी की साँसें चलती है,लफ़्ज़ों से मेरे…!!!

 

“उसको ख़बर थी मेरे कच्चे मकान की,
फिर भी दुआ में उसने बरसात मांगी।”

 

तुम्हीं बताओ तुम्हारा मशविरा क्या है…??
कोई अच्छा लगे तो इसमें बुरा क्या है…??

 

मुझे देखो न तुम इस तरह गहरी निगाह से…!!
दिल डूबने सा लगता है..मोहब्बत के ख़याल से…!!

 

“बता किस कोने में सुखाऊँ तेरी यादें,
बरसात बाहर भी है…और भीतर भी है।”

 

“ना शिकवा…ना उम्मीद…ना मशवरा कीजिए,
अगर जाने वाले ने जाने की ठानी है…तो जाने ही दीजिए।”

 

“कैसे थाम लूँ हाथ किसी और का,
वो कभी तो मिलेगा…तो जवाब क्या देंगे।

 

“हम तो फिर भी शायर हुऐ…इश्क़ हार के,
हमने तो सुना है लोग पागल भी हो जाते हैं।”

 

न हुआ सूर, न तुलसी, न मैं कबीर हुआ…!!
उसके इश्क़ में डूबा..सो फ़क़ीर हुआ…!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.