2 Line Romantic Shayari in Hindi

Two Line Shayari In Hindi | Short Hindi Shayari | Two Line Status in Hindi | two line Shayari in Hindi font | awesome two lines Shayari in Hindi | 2 Line Love Shayari for Her | 2 line love shayari in hindi.

2 Line Romantic Shayari in Hindi

सच के चेहरे में यहाँ झूठ के फसाने देखे।
दुश्मनों को जब गौर से देखा उनमे कई दोस्त पुराने देखे।

 

दिल ने आज फिर तेरे दीदार की ख़्वाहिश रखी है,
फुरसत मिले तो ख्वाब में आ जाना.

 

गर्दिश तो चाहती है तबाही मेरी मगर
मजबूर है किसी की दुआओं के सामने.

 

तूझे याद करना न करना अब मेरे बस में कहाँ
दिल को आदत है हर धड़कन पे तेरा नाम लेने की,

 

मेरी आँखों से जो गिरता है वो दरिया देखो
मैं हर हाल में ख़ुश हूँ मेरा नज़रिया देखो.

 

दर्द शायर का सरेआम यू बिकता रहा
छिन ली गई कलम उसकी मगर वो लिखता रहा।

 

होता है जिस जगह मेरी बर्बादियों का जिक्र
तेरा भी नाम लेती है दुनिया कभी-कभी.

 

खुद को समेट के, खुद में सिमट जाते हैं हम!!
एक याद उसकी आती है फिर से बिखर जाते है हम!!

 

हँस हँस के जवाँ दिल के हम क्यूँ न चुनें टुकड़े
हर शख़्स की क़िस्मत में इनआम नहीं होता !!

 

मैं एक संजीदा साहिल हूं, मुझे मौजों से क्या मतलब
कई तूफान आए पर, मेरी फितरत नहीं बदली.!!

 

इक झलक जो मुझे आज तेरी मिल गई
फ़िर से आज जीने की वज़ह मिल गई.!!

 

फितरत किसी की ना आजमाया कर ऐ जिंदगी,
हर शख्स अपनी हद में बेहद लाजवाब होता है।

 

औरो से तो उमीद का रिश्ता भी नहीं था
तुम इतने बदल जाओगे सोचा भी नहीं था !!

 

तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभालकर ,
वरना अभी दिल दे देता अपने सिने से निकल कर !!

 

किस हक़ से मांगू अपने हिस्से का वक्त तुमसे
क्यूंकि ना ये मेरा है और ना ही तुम मेरे हो.!!

 

इसके लफ्जों में हमें हमारा अस्क मिलता है ,
बड़े नसीबों से ऐसा एक सकस मिलता है !!

 

ग़ुज़री तमाम उम्र उसी शहर में जहाँ..
वाक़िफ़ सभी थे,कोई पहचानता न था..!!

 

न हथियार से मिलते हैं न अधिकार से मिलते हैं,
दिलों पर कब्जे बस अपने व्यवहार से मिलते है।

 

घर अपना बना लेते हैं, जो दिल में मेरे,
मुझसे वो परिंदे, कभी उड़ाये नहीं जाते।

 

अपने दिल की अदालत में ज़रूर जाएं,
सुना है, वहाँ कभी गलत फैसले नहीं हुआ करते।

 

इतना क्यों सिखाए जा रही हो ज़िन्दगी,
हमें कौनसी सदियाँ गुज़ारनी है यहाँ।

 

कॉल फ्री होने से क्या होता है साहिब,
दिलों में गुंजाइश भी तो होनी चाहिए बात करने के लिए।

 

मन को छूकर लौट जाऊँगा किसी दिन,
तुम हवा से पूछते रह जाओगे मेरा पता।

 

मिज़ाज़ अपना कुछ ऐसा बना लिया हमने,
किसी ने कुछ भी कहा, बस मुस्करा दिया हमने।

 

किस लिए, देखते हो तुम आईना,
तुम तो ख़ुद से भी, ज्यादा ख़ूबसूरत हो।

 

यहाँ हर कोई रखता है ख़बर ग़ैरों के गुनाहों की,
अजब फितरत हैं, कोई आइना नहीं रखता।

 

मसला तो सिर्फ एहसासों का है, जनाब,
रिश्ते तो बिना मिले भी सदियां गुजार देते हैं।

 

हमारे महफिल में, लोग बिन बुलाये आते है,
क्यूकी यहाँ स्वागत में, फूल नहीं, दिल बिछाये जाते है।

 

ठीक लिखा था मेरे हाथों की लकीरों में,
तू अगर प्यार करेगा तो बिखर जायेगा।

 

मेरी मोहब्बत का अंदाजा मत लगाना मेरी जान,
हिसाब मैं लूंगा नहीं, और चुकता तुम कर नहीं पाओगी।